Friday, September 27, 2013

प्रभु सम्मुख बोलने की स्तुतियाँ

दर्शनं देव देवस्य, दर्शनं पाप नाशनं
दर्शनं स्वर्ग सोपानं, दर्शनं मोक्ष साधनं।।

जैन धर्म के क्रांतिकारी मुनी श्री तरुण सागर जी के अंतिम दर्शन

जैन धर्म के क्रांतिकारी मुनी श्री तरुण सागर जी के अंतिम दर्शन मुनी श्री ने अपने कड़वे प्रवचन द्वारा सब के दिलो में मिठास भर दी थी. ...