Tuesday, October 29, 2013

Shri Ajhara Parshvanath | श्री अझारा पार्श्वनाथ


धर्नेंद्र  पद्मावती  परी -पूजिताय  श्री  अझारा पार्श्वनाथाय  नमः

Click for more About पार्श्वनाथ


Sunday, October 27, 2013

Shri Omkar Parshvnath | श्री ॐकार पार्श्वनाथ


धर्नेंद्र - पद्मावती  परी -पूजिताय  श्री  ॐकार पार्श्वनाथाय  नमः

Click for more About पार्श्वनाथ

Sunday, October 20, 2013

wallpaper Shri Rishbha dev Ji


प्रभु दर्शन - जय जिनेन्द्र

आदिदेव अलवेसरु, विनितानो राय
नाभिराया कुल्मंडणो मरुदेवा माय ।

Click here "Wallpapers" for more

Jinvaani 9 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes


Pratyek ko apni hi unnati me santust na rahna chahiye,
kintu sabki unnati me apni unnati samzni chahiye.
For more Click "Suvichar"

Friday, October 18, 2013

Jinvaani 8 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes


Sab kaam dharmanusar (nyaypurvak)
arthat satya aur asatya ko vichar karke karna chahiye.

For more Click "Suvichar"

Pujya Gurudev Umesh Muni Ji "Anu"


जय गुरुदेव । Jai Gurudev umeshacharya
जय गुरुदेव । Pujya Gurudev Umesh Muni Ji "Anu"
कमेंट बॉक्स में जय गुरु उमेश "अणु" अवश्य लिखे।
जय गुरुदेव । Jai Gurudev

Thursday, October 10, 2013

Jinvaani 7 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

Jinvaani 7 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes
Jinvaani 7 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

Jeevan ke van me shanti ke suman khilana ho,
to man ke upvan me
"Jin Vachan"
rupi neer nitya shichana hoga |

For more Click "Suvichar"

Wednesday, October 9, 2013

Biography of Aacharya Shri Navratna SagarJi Ma. Sa. | आचार्य श्री नवरत्न सागर जी मा. सा. का जीवन परिचय




आचार्य श्री नवरत्न सागर जी मा. सा. का जीवन परिचय 

संसारी नाम  - 
            रतन पोरवाल
माता जी का नाम - 
            मणि बेन
पिता जी का नाम - 
            लालचंद जी
जन्म दिवस - 
            चैत्र वादी ३ , विक्रम संवत १९९९
जन्म स्थान - 
            राजग्रही (राजगढ़ ) (म.प्र. ),
गच्चाधिपति का नाम - 
            आचार्य दौलातसागर जी मा. सा.
दीक्षा गुरु - 
            मालवदेश उद्धारक आचार्य श्री चन्द्र सागर जी मा. सा.
दीक्षा स्थल - 
            राजग्रही (राजगढ़ ) (म.प्र. ),
गच्छ - 
             तपागच्छ
समुदाय  - 
             आचार्य श्री सगरानंद सूरी जी

प्रतिष्ठा - 
             शंखेश्वर आगम मंदिर सहित लगभग १२५ मंदिरों की प्रतिष्ठा करवाई 
अंजनशलाका - 
             भक्ताम्बर महातीर्थ, धार (म.प्र. ), शंखेश्वर आगम मंदिर आदि।
नूतन जिनालय - 
             भक्ताम्बर महातीर्थ, धार (म.प्र. ), शंखेश्वर आगम मंदिर।
जीर्णोद्धार - 
             भोपावर महातीर्थ, गिनकार गिरी तीर्थ, श्री सिद्धचक्र मंदिर उज्जैन, आदिनाथ जैन मंदिर अरनोद।
तपावली  - 
             गुरुदेव के तप एवं जप को शब्दों के सागर में बांधा नहीं जा सकता।
पुस्तकें  -
             नवरत्न मंजूषा
मुखपत्र (मैगजीन) -  
            आगमोद्धारक, नित्य संस्कृति, जय नवरत्न सन्देश।
विशेषताएँ - 
शब्दों मा अमृत बरसे 
प्रेम ना है भंडार। 
एवा गुरु नवरत्न वन्दियें 
सुख शांति दातार।।



आपकी रचनाओं का स्वागत है
आप अपनी मौलिक एवं अप्रकाशित रचनाओं को जैनिज़्म संसार में प्रकाशनार्थ टंकित रूप में -मेल द्वारा भेज सकते हैं  -मेल पता - anshul.mehta.soft@gmail.com 
संपादन एवं प्रकाशन पूर्णतः अवैतनिक एवं अव्यावसायिक होने के कारण प्रकाशित रचनाओं पर मानदेय का कोई प्रावधान नहीं है इसमें प्रकाशन के बाद आप अपनी रचनाएँ किसी भी मुद्रित माध्यम के लिए अवश्य भेज सकते हैं अन्यत्र इस सामग्री का उपयोग करने पर जैनिज़्म संसार के सौजन्य का उल्लेख अवश्य कीजिए

Jinvaani 6 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

Jinvaani | Suvichar | Inspirational Quotes
Jinvaani | Suvichar | Inspirational Quotes

Nirasha Ki nisha me 'Navkar' hi ek aasha ki kiran hai

For more Click "Suvichar"



आपकी रचनाओं का स्वागत है
आप अपनी मौलिक एवं अप्रकाशित रचनाओं को जैनिज़्म संसार में प्रकाशनार्थ टंकित रूप में -मेल द्वारा भेज सकते हैं
-मेल पता anshul.mehta.soft@gmail.com 
संपादन एवं प्रकाशन पूर्णतः अवैतनिक एवं अव्यावसायिक होने के कारण प्रकाशित रचनाओं पर मानदेय का कोई प्रावधान नहीं है  इसमें प्रकाशन के बाद आप अपनी रचनाएँ किसी भी मुद्रित माध्यम के लिए अवश्य भेज सकते हैं  अन्यत्र इस सामग्री का उपयोग करने पर जैनिज़्म संसार के सौजन्य का उल्लेख अवश्य कीजिए 

Monday, October 7, 2013

Shri Shankeshver Parshvanath | श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ


धर्नेंद्र  पद्मावती  परी -पूजिताय  श्री  शंखेश्वर पार्श्वनाथाय  नमः

Click for more About पार्श्वनाथ

Shri Nageshvar Parshvanath | श्री नागेश्वर पार्श्वनाथ



धर्नेंद्र - पद्मावती  परी -पूजिताय  श्री  नागेश्वर पार्श्वनाथाय  नमः

Click for more About पार्श्वनाथ

Saturday, October 5, 2013

Jinvaani 5 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

inspirational quotes
Jinvaani | Suvichar | Inspirational Quotes
Sakkar me ekakar bane bina aaj tak
koi bhi Nirakar nahi ban paya hai |

For more Click "Suvichar"

Friday, October 4, 2013

Jinvaani 4 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

inspirational quotes
JenVaani Suvichar | Inspirational Quotes

Yaad Rakhiye - 
sanyam ke sopan se hi siddhi ke shikharo tal 
pahuchane wale bante hai |

For more Click "Suvichar"

Thursday, October 3, 2013

Jinvaani 3 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

Jinvaani | Suvichar | Inspirational Quotes

Mukti ki prapti pramad se nahi,
Guru ke prasad se hoti hai |


For more Jinvani Click "Suvichar"

Wednesday, October 2, 2013

Jinvaani 1 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

Inspirational Quotes
jinvaani Suvichar
Vassta Jiska Mukti se ho aur aastha jiski achal ho,
Use rasta to kya manjil bhi mil sakti hai |

For more Click "Suvichar"

Tuesday, October 1, 2013

Jinvaani 2 | Suvichar | सुविचार | inspirational quotes

Inspirational Quotes
Jinvaani | Suvichar | Inspirational Quotes

Virat vishv me vichakshan vyakti to wahi kehlayega,
jo jeevan ke kshan - kshan ka nirikshan kare |

for more Jeenvani click "Suvichar"

Jai Jai aarti Aadijinanda | जय जय आरति आदि जिणंदा

जय जय आरति आदि जिणंदा, 
नाभिराया मरुदेवी को नंदा ।।1।।

पहेली आरति पूजा कीजे, 
नरभव पामीने लाहो लीजे ।।2।।

दुसरी आरति दीन दयाला, 
धुळेवा मंडपमां जग अजवाळा ।।3।।

तीसरी आरति त्रिभुवन देवा, 
सुरनर इन्द्र करे तोरी सेवा ।।4।।

चोथी आरति चउगति चुरे, 
मनवांछित फल शिवसुख पुरे ।।5।।

पंचमी आरति पुन्य उपाया, 
मूळचन्दे ऋषभ गुण गाया ।।6।।

For more aarti click "आरती"

Mangal Dipak (Divo) | मंगळ दीपक (दीवो) आरती


दीवो रे दीवो प्रभु मंगलिक दीवो, 
आरति उतारण बहु चिरंजीवो ।।1।।

सोहामणुं घेर पर्व दीवाळी, 
अम्बर खेले अमरा बाळी ।।2।।

दीपाळ भणे एणे कुल अजुआळी, 
भावे भगते विघन निवारी ।।3।।

दीपाळ भणे एणे ए कलिकाळे, 
आरति उतारी राजा कुमारपाळे ।।4।।

अम घेर मंगलिक तुम घेर मंगलिक, 
मंगलिक चतुर्विध संघने होजो ।।5।।

For more aarti click "आरती"

Nakoda Bhairav Aarti | श्री नाकोडा भैरवजी की आरती



ॐ जय जय जयकारा, वारी जय जय झंकारा,
आरति उतारो भविजन मिलकर, भैरव रखवाला,
वारी जीवन रखवाला ॐ जय जय जयकारा ।।1।।

तुं समकित सुरनर मन मोहक, मंगल नितकारा, वारी मं.,
श्री नाकोडा भैरव सुंदर, जन मन हरनारा,
ॐ जय जय जयकारा ।।2।।

खडग त्रिशुल धर खप्पर सोहे, डमरु कर धारा, वारी ड.,
अद्भूत रुप अनोखी रचना, मुकुट कुंडल सारा,
ॐ जय जय जयकारा ।।3।।

ॐ ह्रीँ क्षाँ क्षः मंत्रबीज युत, नाम जपे ताहरा, वारी ना.,
रिद्धि सिद्धि अरु सम्पद मनोहर, जीवन सुखकारा,
ॐ जय जय जयकारा ।।4।।

कुशल कर तेरा नाम लिया नित, आनन्द करनारा, वारी आ.,
रोग शोक दुःख दारिद्र हरता, वांछित दातारा,
ॐ जय जय जयकारा ।।5।।

श्रीफल लापसी मातर सुखडी, लड्डु तेलधारा वारी ल.,
धुप दीप फूल माल आरति, नित नये रविवारा,
ॐ जय जय जयकारा ।।6।।

वैयावच्च करता संघ तेरी, ध्यान अडग धारा, वारी ध्या.,
‘हिंमत’ ‘हित’ से चित में धरता, ‘भव्यानंद’ प्यारा,
ॐ जय जय जयकारा ।।7।।

दो हजारके शुभ संवत्सर, पोष मास रसाला, वारी पो.,
श्री संघ मिलकर करे आरति, मंगल शिव माला,
ॐ जय जय जयकारा ।।8।।

For more aarti click "आरती"

तिथि किसे कहेते है।

जीव अकेला आता है और अकेले जाता है उसे * एकम * कहेते हैं। जीव दो प्रकार का धर्म का पालन करता है उसे * बीज * कहेते हैं। जीव देव-गुरु-धर्म कि...