Thursday, September 11, 2014

Information about the soul | आत्मा के बारे में जानकारी

जैसे घी के साथ मिट्टी मिली हुई है और उसको हमने गर्म कर दिया है | मिट्टी से मिला होने पर भी घी तो घी ही है, मिट्टी अलग द्रव्य है और घी अलग | गर्म होते हुए भी वह घी अपने स्वभाव में अर्थात चिकनेपने में ही विद्यमान है | गर्मपने के अभाव में भी चिकनेपने की अर्थात घी की उपलब्धि होती है, परन्तु चिकनेपने के अभाव में घी की उपलब्धि नहीं होती, अतः चिकनापना ही घी का ( स्वभाव ) सर्वस्व है | घी में गर्मी स्वयं नहीं आई अपितु अग्निजन्य है |

 

यहाँ दृष्टांत में मिट्टी के स्थान पर शरीर, चिकनेपने के स्थान पर चैतन्य, गर्मी के स्थान पर भावकर्म और अग्नि के स्थान पर द्रव्यकर्म हैं | मिट्टी और घी के मिश्रण के समान शरीर व् चैतन्य मिलकर एक से भास् रहे हैं, परन्तु हैं वे पृथक-पृथक द्रव्य, और गर्म घी के समान चैतन्य भी राग-द्वेष आदि भाव कर्मों से तप्तायमान हो रहा है, परन्तु ये सारे विकारी भाव हैं चेतना के अपने नहीं, द्रव्यकर्म-जन्य हैं, द्रव्यकर्म के उदय से आत्मा में हुए हैं अतः पर ही हैं |

 

चीज़ें वहाँ दोनों ही हैं - ज्ञान भी और कर्म भी और देखने वाला यह स्वयं है | इसे स्वयं ही चुनाव करना है कि मैं अपने आपको ज्ञान-रूप देखूं या कर्म व् कर्मफल-रूप | अपने को पर रूप देखना तो संसार है| यहाँ ध्यान देने योग्य बात यह है कि { देखना } पढ़ना नहीं, सुनना नहीं, कहना नहीं - मात्र देखना | ज़ोर देखने पर है, और अपने को अपने-रुप देखना सो मोक्ष है | अपने को अपने रूप देखना ही मोक्षरूप है, मोक्ष का मार्ग है, सम्यग्दर्शन है, स्वानुभूति है | "पर से हटना " अपने में आना है, "अपने में आना" पर से हटना है ज़ोर अपने में आने पर है | परमार्थ अपने में लगना है -अपने में लगना वह धर्म है पर से हटना तो मात्र व्यवहार है | मैं चेतन ज्ञान-दर्शन मई हूँ |

 

स्वयं विचार कीजिये।

 

जैन धर्म के क्रांतिकारी मुनी श्री तरुण सागर जी के अंतिम दर्शन

जैन धर्म के क्रांतिकारी मुनी श्री तरुण सागर जी के अंतिम दर्शन मुनी श्री ने अपने कड़वे प्रवचन द्वारा सब के दिलो में मिठास भर दी थी. ...