Tuesday, May 12, 2015

Tirthankar Avantiparshavnath ji

प्रभु दर्शन सुख सम्पदा, प्रभु दर्शन नवनिध्।
प्रभु दर्शन थी पमिये, सकल पदारथ सिद्ध।।
Prabhu darshan sukh sampada, prabhu darshan nava nidh
Prabhu darshan thi pamiea, sakal padhaaratha siddha
नमो जिणाणम नमो जिणाणम नमो जिणाणम
#jainismSansar #Jain #jainism #tirthankar

Seva kya hai? | सेवा क्या है?

🌲सेवा क्या है? 🌲 सेवा कर्म काटने का माध्यम है। सेवा आपके मन को विनम्र बनाती है। तन को चुस्त रखती है। मन में स्थिरता का माहौल पैदा करती...