Google+
Awesome FB Comments. Do Read Below.

Gyan panchami ki aaradhana - ज्ञान पंचमी की आराधना

. .
✍ज्ञान से बडी कोई शक्ति नहीं,
✍ज्ञान से बडा कोई बल नही,
✍ज्ञान से बड़ा कोई धन नही,
✍ज्ञान से बड़ी कोई पूजा नहीं,
✍ज्ञान से बड़ी कोई साधना नहीं,
✍ज्ञान से बड़ी कोई आराधना नहीं,


ज्ञान पंचमी की आराधना..
 ज्ञान की आराधना का दिन है।
तीर्थंकर भगवान् महावीर ने अपनी देशना में कहा है... स्थाई सुख के साधन है...  ज्ञान, दर्शन, चारित्र और तप l

◾सुख में बाधा डालने वाले है...
क्रोध, मान, माया और लोभ l


❇ ये पाँच ज्ञान की आराधना में बाधक कारण है, अतः 
अह पंचहिं ठाणेहिं, जेहिं सिक्खा न लब्भइ ।
थंभा कोहा पमाएणं, रोगेणालस्सए णय प ।।
अर्थात् : अहंकार, क्रोध, प्रमाद, रोग और आलस्य... ज्ञान-प्राप्ति में बाधक कारण है l


***********************************
  ज्ञानपंचमी दिवस की क्रिया - आराधना...
***********************************
 जिनालय में जाकर बच्चों द्वारा ज्ञान के साधन : पुस्तक काँपी, पैन, पैसिल आदि चढवाकर ज्ञान की वासक्षेप से पुजा जरूर कराये l
आज से ज्ञान पंचमी की आराधना तप शुरू करने का विधान है, जिसकी अवधि 5 वर्ष 5 माह होती है....
ज्ञान पंचमी की क्रिया -
51 - लोगस्स का काउस्सग
51 - प्रदक्षिणा
51 - खमासमणा
51 - साथियाँ
       ==   "ऊँ ह्रीँ णमो नाणस्स"  ==
इस पद की 20 नवकार वाली,
उपवास, आयंबिल, एकासना आदि तप से करे, सामायिक, प्रतिक्रमण, देववंदन आदि करे l

******************************
 *नोटः* यह लिखने का उद्धेश्य भी ज्ञान की आराधना को ओर गतिमान कार्यरूप देना ही है, कृपया अन्यथा न समझे l

***********************************
http://jainismSansar.blogspot.com/

ज्ञान वडूं संसार मां, ज्ञान परम् सुख हेत,
ज्ञान विना जग जीवड़ा, न लहे तत्व संकेत l

ज्ञान आत्मा का मौलिक गुण है, ज्ञानावर्णीय कर्म के कारण यह गुण आवरण वाला हो गया है - यह आवरण दूर होते ही आत्मा अपने मूल गुण युक्त प्रकट हो जाती है ।  सम्यग् ज्ञान आत्मा के लिए कितना आवश्यक है उसका स्पष्टीकरण आगम में कहा है - "पढमं नाणो तओ दया" "प्रथम् ज्ञान ने पछी अहिंसा" अर्थात् प्रथम् ज्ञान और बाद में महाव्रत, व्रत, नियम आदि l जैनागमों में धर्म को सूक्ष्म बुद्धि से करने का विधान है, स्थूल बुद्धि से किया जाने वाला धर्म - अधर्म के खाते में चला जाता है, अत: सम्यग् ज्ञान को जानना प्रथम आवश्यक है l शुभम् अस्तु ।।
जैनिज्म : सद्-गति से परम्-गति की ओर...
........
 *जय जिनेन्द्र*

Google+ Badge

Recent Post

Facebook Like

You May Like to Read

Popular Posts