Wednesday, October 9, 2013

Biography of Aacharya Shri Navratna SagarJi Ma. Sa. | आचार्य श्री नवरत्न सागर जी मा. सा. का जीवन परिचय




आचार्य श्री नवरत्न सागर जी मा. सा. का जीवन परिचय 

संसारी नाम  - 
            रतन पोरवाल
माता जी का नाम - 
            मणि बेन
पिता जी का नाम - 
            लालचंद जी
जन्म दिवस - 
            चैत्र वादी ३ , विक्रम संवत १९९९
जन्म स्थान - 
            राजग्रही (राजगढ़ ) (म.प्र. ),
गच्चाधिपति का नाम - 
            आचार्य दौलातसागर जी मा. सा.
दीक्षा गुरु - 
            मालवदेश उद्धारक आचार्य श्री चन्द्र सागर जी मा. सा.
दीक्षा स्थल - 
            राजग्रही (राजगढ़ ) (म.प्र. ),
गच्छ - 
             तपागच्छ
समुदाय  - 
             आचार्य श्री सगरानंद सूरी जी

प्रतिष्ठा - 
             शंखेश्वर आगम मंदिर सहित लगभग १२५ मंदिरों की प्रतिष्ठा करवाई 
अंजनशलाका - 
             भक्ताम्बर महातीर्थ, धार (म.प्र. ), शंखेश्वर आगम मंदिर आदि।
नूतन जिनालय - 
             भक्ताम्बर महातीर्थ, धार (म.प्र. ), शंखेश्वर आगम मंदिर।
जीर्णोद्धार - 
             भोपावर महातीर्थ, गिनकार गिरी तीर्थ, श्री सिद्धचक्र मंदिर उज्जैन, आदिनाथ जैन मंदिर अरनोद।
तपावली  - 
             गुरुदेव के तप एवं जप को शब्दों के सागर में बांधा नहीं जा सकता।
पुस्तकें  -
             नवरत्न मंजूषा
मुखपत्र (मैगजीन) -  
            आगमोद्धारक, नित्य संस्कृति, जय नवरत्न सन्देश।
विशेषताएँ - 
शब्दों मा अमृत बरसे 
प्रेम ना है भंडार। 
एवा गुरु नवरत्न वन्दियें 
सुख शांति दातार।।



आपकी रचनाओं का स्वागत है
आप अपनी मौलिक एवं अप्रकाशित रचनाओं को जैनिज़्म संसार में प्रकाशनार्थ टंकित रूप में -मेल द्वारा भेज सकते हैं  -मेल पता - anshul.mehta.soft@gmail.com 
संपादन एवं प्रकाशन पूर्णतः अवैतनिक एवं अव्यावसायिक होने के कारण प्रकाशित रचनाओं पर मानदेय का कोई प्रावधान नहीं है इसमें प्रकाशन के बाद आप अपनी रचनाएँ किसी भी मुद्रित माध्यम के लिए अवश्य भेज सकते हैं अन्यत्र इस सामग्री का उपयोग करने पर जैनिज़्म संसार के सौजन्य का उल्लेख अवश्य कीजिए

तिथि किसे कहेते है।

जीव अकेला आता है और अकेले जाता है उसे * एकम * कहेते हैं। जीव दो प्रकार का धर्म का पालन करता है उसे * बीज * कहेते हैं। जीव देव-गुरु-धर्म कि...